mgunivgkp@gmail.com +91-9415266014, +91-9935904499 +91-9794299451

Courses Offered

Running Courses

  • Basic B.Sc. Nursing
  • Post Basic B.Sc. (Nursing)
  • Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
  • M.Sc. (Nursing)
  • ANM
  • GNM

Upcoming Courses

  • M.B.B.S.
  • B. Pharma (Ayurveda)
  • D. Pharma (Ayurveda)
  • B.Pharma (Allopath)
  • D.Pharma (Allopath)
  • Paramedical Courses
  • B.Sc. Yogik Science
  • B.Sc. I.T.
  • B.Sc. Ag
  • B.Sc. (Hons.) Math Group
  • B.Sc. (Hons.) Bio Group
  • B.D.S.
  • B.H.M.S.
  • B.U.M.S.
  • I.T.E.P.
  • B.El.Ed.
  • B.P.Ed.
  • B.C.A.
  • B.B.A.
  • B.A. Vaidik Science
  • B.A. (Hons.) Arts
  • B.A.(Hons.) Social Science
  • Shastri (Hons.)
  • B.Sc.+ B.Ed.
  • B.A. + B.Ed.
  • B.com
  • B.Sc. Computer
  • B.Ed.

महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय गोरखपुर में आप का स्वागत है :

logo of the Mahayogi Gorakhnath University Gorakhpur

महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय गोरखपुर के लोगो में महायोगी गुरु श्री गोरखनाथ जी की प्रतिमा केन्द्र में है । महायोगी गोरखनाथ जी भारत के सामाजिक प्रगति के अग्रदूत है । वायाडम्बर - पाखण्ड , ऊँच - नीच , छुआछूत जैसी सामाजिक विकृतियों के विरूद्ध समाज को जाग्रत करने वाले महायोगी गोरखनाथ ने सदाचरण , सच्चरित्रता सदाशयता एवं सद्व्यवहार को सामाजिक प्रतिष्ठा दिलाई । लोककल्याणार्थ अपनी पूर्ण तपश्चर्या को समर्पित करने वाले महायोगी गोरखनाथ भारतीय संस्कृति के गौरवशाली अतीत एवं युगानुकूल आधुनिकता के प्रतीक हैं ।

महायोगी गोरखनाथ भारत की ज्ञान परम्परा एवं योग - परम्परा के सिद्ध पुरुष हैं । गुरु - शिष्य की अद्वितीय परम्परा भी गुरु श्री गोरखनाथ से जुड़ती है । लोगो में महायोगी गोरखनाथ की प्रतिमा से ऊँ से होते हुए ज्ञान के प्रकाश - पुन्ज का फैलाव भारत की ज्ञान - परम्परा के चतुर्दिक प्रसार को प्रतिबिम्बित करता है ।...

लोगो का बोध वाक्य ' स्वस्ति पन्थामनुचरेम् ' , महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय गोरखपुर के उद्देश्य , दृष्टि एवं लक्ष्य को एक साथ प्राख्यापित करता है । ऋग्वेद के पाँचवें मण्डल में उपरोक्त बोध वाक्य का पूर्ण रूप इस प्रकार उल्लिखित है.. आगे पढ़ें..

प्रवेश के लिए पूछताछ

महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय गोरखपुर

भारत की संत परम्परा में नाथ पंथ के प्रर्वतक महायोगी गोरखनाथ का प्रतिष्ठित स्थान है। भारत की आध्यात्मिक परम्परा में योग के क्रियात्मक रूप का जन-जन तक पहुँचाने का श्रेय महायोगी गुरु गोरखनाथ तथा नाथ योगियों को ही हैं। नाथपंथ के प्रर्वतक इय महायोगी को युग-प्रर्वतक सन्त माना जाता है। भारत में सामाजिक परिर्वतन के अग्रदूत महायोगी गोरखनाथ ने मानव तन-मन-मस्तिष्क और आत्मा की शुद्धि के साथ स्वास्थ्य एवं उपासना का अद्वितीय सूत्र मनुष्य को दिया। गुरु श्री गोरखनाथ द्वारा प्रवर्तित नाथपंथ लोक-कल्याण को समर्पित सेवा को ही साधना मानकर निष्काम कर्मयोग का पथ-प्रदर्शक है। श्री गोरखनाथ मन्दिर महायोगी श्री गोरखनाथ जी की तपःस्थली है। लोक मान्यता है कि श्री गोरखनाथ मन्दिर एवं श्री गोरक्षपीठ के महन्त गुरु श्री गोरखनाथ जी के प्रतिनिधि हैं। युग-प्रर्वतक महायोगी गोरखनाथ की यह तपःस्थली युगानुकूल अपनी लोकमंगलकारी भूमिका का विस्तार करती रही है। आधुनिक युग में ब्रह्मलीन महन्त दिग्विजयनाथ जी महराज ने शिक्षा और चिकित्सा को सेवा का अंग बनाया। ... आगे पढ़ें..

Courses we Offer

We care for our students, protect their welfare, and prepare them for the future.

Under Graduation
  • Basic B.Sc. (Nursing)
  • Post Basic B.Sc. (Nursing)
  • Bachelor of Ayurveda, Medicine and Surgery (BAMS)
Post Graduation
  • M.Sc. (Nursing)
Diploma & Certifications
  • ANM
  • GNM
चित्र वीथिका

चित्र वीथिका

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos

Campus Photos